राहु की दशा से मुक्ति पाना चाहते है तो करेंं ये उपाए, राहु होंगे प्रसन्न करेंगे मालामाल

Rahu Grah Shanti Ke Upay

राहू बिना सिर का ग्रह है। मतलब, इसकी दशा खराब होने पर सीधा असर आपकी बुद्धि और विवेक पर होता है। इसकी दशा आने पर यह जातकों को पीडि़त करता है और प्रसन्‍न होने पर मालामाल भी कर देता है। राहू के कुछ उपाय ऐसे हैं जिन्‍हें अपनाकर आप इसकी क्रूरता कम कर सकते हैं। साथ ही अनुकूल परिणाम भी प्राप्‍त कर सकते हैं। आइए, आज राहू ग्रह शांति के उपायों की चर्चा करते हैं।

1 . राहु का जाप मंत्र
“ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहुवे नमः”। इस मंत्र का जाप प्रतिदिन 18000 बार , मन को शांति मिलने तक करना चाहिए ।

राहु ग्रह शांति के उपाय

2 . बहते हुए पानी में शीशा या नारियल प्रवाहित करे ।
3 . हर बुधवार को 400 ग्राम धनिया बहते हुए पानी में प्रवाहित करें।
4 . काले कुत्ते को मीठी रोटियां खिलायें।
5 . रात को सोते समय अपने सिरहाने के नीचे जौ के दाने रखे सुबह उनको पक्षियों को खिलायें।
6 . गिलहरी को दाना डालें।
7 . हर मंगल या शनिवार को चीटियों को कुछ मीठा खिलांये।
8 . अगर राहु आपकी कुंडली में 12 वे घर में बैठा है तो भोजन रसोई घर में करें।
9 . शनिवार के दिन अपना उपयोग किया हुआ कम्बल किसी गरीब को दान करें।
10 .अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ पर रात को 12 बजे दीपक जलायें।
11 .यदि राहु सूर्य के साथ हो तो सूर्य ग्रहण के समय कोयला और सरसों नदी में प्राविहित करना चाहिए।
१२. यदि राहु चन्द्रमा के साथ है तो पूर्णिमा के दिन बहते पानी में नारियल, दूध ,जौ, लकड़ी का कोयला, हरी दूब, ताम्बा, काला तिल प्राविहित करें।
13 .अगर आपकी कुंडली में राहु और केतु एक साथ बैठे है तो यह उपाय जरूर करें। हर रोज मजदूरों को एक तम्बाकू की एक पुड़िया दान में दें। ऐसा 43 दिन तक करेंगे तो यह योग कभी आपको बुरा फल नहीं देगा।