Covid-19 काल में मानसिक तनाव से बचने के लिए करें रोज इस चीज का सेवन

mental stress

मानसिक तनाव उन मनो-सामाजिक कारकों में से एक माना जाता है जो कार्डियोवैस्कुलर डिसीज़ (सीवीडी) यानि हृदय और रक्तवाहिकाओं संबंधी रोग के खतरों के लिए कारण बनता है। हृदय गति परिवर्तनशीलता (एचआरवी) तनाव के प्रति कार्डियोवैस्कुलर प्रणाली के रेस्पॉन्स का एक महत्वपूर्ण संकेतक है और ऐसा माना जाता है कि शारीरिक गतिविधि और आहार सहित जीवनशैली के कारक एचआरवी पर प्रभाव डाल सकते हैं। कम एचआरवी का संबंध कार्डियोवैस्कुलर रोगों और सडन कार्डिएक डेथ से है।

हाल ही में किए गए क्लिनिकल ट्रायल के एक भाग के अंतर्गत किंग्स कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने मानसिक तनाव चुनौती से गुज़र रहे प्रतिभागियों में एचआरवी का मापन किया और पाया कि जिन प्रतिभागियों ने छह सप्ताह की अवधि में सामान्य स्नैक्स की जगह बादाम का सेवन किया उनके एचआरवी में सुधार देखा गया।

शोध का यह नया निष्कर्ष एटीटीआईएस अध्ययन का एक हिस्सा था, 6 सप्ताह का एक रैन्डमाइज्ड कंट्रोल, पैरलल-आर्म ट्रायल, जहाँ औसत के ऊपर कार्डियोवैस्कुलर रोग के खतरे वाले प्रतिभागियों ने रोज़ाना स्नैक्स के तौर पर बादाम का या कैलोरी का मेल करते हुए कंट्रोल स्नैक्स का सेवन किया, जिससे प्रत्येक प्रतिभागियों को अनुमानित रोज़ाना ऊर्जा ज़रूरतों का 20% उपलब्ध कराया गया।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों के आराम की स्थिति में (5 मिनट की अवधि के लिए लेटना) और मानसिक तनाव की छोटी अवधि की उत्तेजना के लिए स्ट्रूप टेस्ट के दौरान (जिसमें प्रतिभागियों को कलर किए गए शब्दों को पढ़ने के लिए कहा गया उदाहरण के लिए ग्रीन फॉन्ट में रेड)  रियल टाइम हार्ट रेट (एचआर) और हार्ट रेट वैरिएबिलिटी (एचआरवी) को मापा गया।

अत्यधिक मानसिक तनाव के दौरान बादाम ग्रुप वाले प्रतिभागियों में कंट्रोल ग्रुप वालों की तुलना में हृदय गति का नियंत्रण बेहतर पाया गया। इसे हाई फ्रिक्वेन्सी पॉवर में आंकड़ों की दृष्टि से महत्वपूर्ण अंतर द्वारा दर्शाया गया जो विशिष्ट रूप से प्रत्येक धड़कन के अंतराल का (एचआरवी का मापन) मूल्यांकन करता है।

डॉ. वेन्डी हॉल, पीएचडी, को-प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर (डॉ. सारा बेरी, पीएचडी, के साथ) और किंग्स कॉलेज लंदन में न्यूट्रीशनल साइंसेस में रीडर ने कहा, “यह अध्ययन दर्शाता है कि सामान्य स्नैक्स की जगह बादाम के आहार में अदला-बदली की साधारण रणनीति से हृदय गति के नियंत्रण में सुधार लाकर मानसिक तनाव के प्रतिकूल कार्डियोवैस्कुलर परिणामों के प्रति लचीलेपन में वृद्धि आ सकती है। हमने पाया कि आहार में हस्तक्षेप के बाद कंट्रोल की तुलना में बादाम का सेवन करने वाले समूह में मानसिक तनाव के कारण होनेवाली हृदय गति परिवर्तनशीलता में कमी आई, जो एक कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य फायदे की ओर संकेत करता है। उच्च एचआरवी के बारे में सोचना उपयोगी हो सकता है क्योंकि इससे शरीर की माँग के अनुसार हृदय तेजी से गियर बदल सकता है जिसका मतलब यह है कि मानसिक तनाव की अवधि के दौरान ज़्यादा कार्डिएक लचीलापन। लंबे समय में यह कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

अध्ययन यह सलाह देता है कि सामान्य स्नैक्स की जगह बादाम खाने से मानसिक तनाव के दौरान एचआरवी में गिरावट को कम किया जा सकता है और इस तरह कार्डिएक कार्यक्षमता में सुधार आ सकता है। आहार में की जानेवाली इस रणनीति से मानसिक तनाव की स्थिति के प्रति कार्डियोवैस्कुलर लचीलापन बढ़ाने की संभावना है इसके साथ ही बादाम का सेवन करने के अन्य स्वास्थ्य लाभ जैसे एलडीएल कोलेस्ट्रोल कम करना और रक्त वाहिकाओं की कार्यक्षमता में सुधार लाना भी संभव है।

इस अध्ययन के बारे में मैक्स हेल्थकेयर – दिल्ली की रीजनल हेड-डायटेटिक्स रितिका समद्दर ने कहा कि इस अध्ययन के नतीजे लाभदायक हैं, खासतौर पर भारत जैसे देश के लिए जहाँ मानसिक तनाव और कार्डियोवैस्कुलर रोग (सीवीडी) बड़ी चिंता का विषय हैं। इस नए अध्ययन के नतीजे यह दर्शाते हैं कि किस तरह सामान्य स्नैक्स की जगह नियमित बादाम खा रहे प्रतिभागियों में मानसिक तनाव के प्रति रेस्पॉन्स में हृदय गति परिवर्तनशीलता में सुधार आया। इसलिए मैं बहुत ज़ोर देकर यह सिफारिश करती हूँ कि हाई कैलोरीयुक्त जंक फूड की जगह बादाम खाएं जो स्नैक्स का एक सेहतमंद और पौष्टिक विकल्प है। लंबे समय में यह आसान बदलाव किसी भी व्यक्ति के संपूर्ण हृदय स्वास्थ्य के लिए भी सहायता करेगा।