हाई ब्‍लड प्रेशर को मिनटों में कहें बाय-बाय, यह है रामबाण ईलाज

 

हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या पिछले कुछ सालों में एक आम बीमारी के रूप में सामने आई है। हर तीन में से एक भारतीय इस समस्‍या से जूझ रहा है। वैसे तो हाई ब्‍लडप्रेशर के कई कारण है लेकिन बिजी लाइफस्‍टाइल और असंतुलित खान-पान इसकी प्रमुख वजह है। हाई ब्‍लड प्रेशर ह्दय, किडनी, आंखों और मस्तिष्‍क से संबंधित जानलेवा रोग पैदा कर सकता है।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार सुबह का समय शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने में काफी अच्‍छा माना गया है। सुबह 30 मिनट की कसरत या फिर शरीरिक गतिविधियां आपको हाई ब्‍लड प्रेशर को कम करने में मदद करती है। अध्‍ययन में यह भी सामने आया है कि जो महिलाएं दिनभर में काम के दौरान ब्रेक लेती है वह कसरत को अपनी सुविधानुसार बढ़ा सकती है।

आस्‍ट्रेलिया के मेलबर्न में स्थित बेकर हार्ट एंड डायबिटीज संस्‍थान में कार्यरत और पर्थ में वेस्‍टर्न ऑस्‍ट्रेलिया यूनिवर्सिटी में पीएचडी कैंडिडेट और अध्‍ययन के प्रमुख लेखक माइकल व्‍हीलर का कहना है कि परंपरागत रूप से वर्कआउट और गतिहीन जीवनशैली से स्‍वास्‍थ्‍य पर हो रहे प्रभावों का कई तरह से अध्‍ययन किया गया है। हम जानना चाहते थे कि रक्‍तचाप पर इन व्‍यवहारों का क्‍या संयुक्‍त प्रभाव हो सकता है।

शोध में शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन महिलाओं और पुरुषों ने सुबह व्‍यायाम किया उनमें सुबह वर्कआउट नहीं करने वाले लोगों की तुलना में औसत रक्‍तचाप खासकर सिस्‍टोलिक कम हो गया। शोधकर्ता व्‍हीलर ने कहा कि पुरुष और महिलाएं जो वर्कआउट के साथ काम के दौरान ब्रेक लेते हैं उनके औसत सिस्‍टोलिक रक्‍तचाप में कमी, ह्दय रोगों और स्‍ट्रोक से मृत्‍यु के जोखिम को कम कर सकती है। हम बैठकर काम करने वाले लोगों को ब्रेक लेने के साथ वर्कआउट करने पर भी ध्‍यान केंद्रित करना चाहते हैं। काम के बीच में ब्रेक लेने के साथ वर्कआउट पर भी पूरी तरह फोकस करना चाहिए।

हाई ब्‍लड प्रेशर से निपटने के तरीके

  1. नमक का कम सेवन करना
  2. पोटेशियम युक्‍त खाद्य पदार्थों का अधिक सेवन
  3. शराब का सेवन कम करना
  4. धूम्रपान छोड़ना
  5. सतुलित आहार लेना
  6. मसालेयुक्‍त भोजन से परहेज करना