यदि आपकी कुंडली में एक साथ बैठे हैं ये ग्रह, तो शराब की लत छोड़ना होगा मुश्किल

alcohol-addiction

शराब या किसी अन्य नशे की लत इंसान के जीवन को बर्बाद कर सकती है। इससे इंसान के न सिर्फ करियर पर असर पड़ता है, बल्कि उसका स्वास्थ्य भी कमजोर होता है। नशे की लत की धीरे-धीरे इंसान का आत्मविश्वास भी कमजोर कर देती है। यूं तो नशे के पीछे लोग कई तरह के बहाने बनाते हैं, लेकिन इसकी एक वजह कुंडली के ग्रहों का प्रभाव भी होता है।

ज्‍योतिषाचार्यों के मुताबिक मानव जीवन में जितनी भी बुरी लत होती हैं, उनका कारक राहु है। अगर कुंडली में राहु पहले, दूसरे, सातवें या 12वें भाव में है, तो जातक के नशे

का शिकार होने की पूरी संभावना होती है। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव दूसरे भाव पर होता है। राहु से जुड़े नशों में धूम्रपान सबसे ऊपर है।

धन प्राप्ति के लिए ऐसे करें शनि देव को प्रसन्‍न

चंद्रमा की भूमिका

चंद्रमा को मादक पदार्थों और शराब का कारक माना गया है। शराब को सोमरस के नाम से भी पुकारा जाता है, जो चंद्रमा से ही संबंधित है। इसलिए, अगर कुंडली में चंद्रमा पर राहु का प्रभाव हो या दोनों ग्रह साथ में हों तो जातक शराबी हो जाता है। इतना ही नहीं उसके लिए शराब छोड़ना आसान नहीं होता है।

इन 3 आदतों से होती है धन की बर्बादी, आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए करें ये काम

नशे की लत के दूसरे योग

अगर कुंडली में शुक्र के साथ राहु विराजमान हैं या दोनों ग्रह संबंध बना रहे हों तो भी व्यक्ति शराबी हो सकता है। इस युति में अगर शुक्र नीच का है तो व्यक्ति शराब के साथ दूसरे नशे का आदी भी हो सकता है। अगर इन पर शनि और मंगल का प्रभाव हो तो हालात और भी ज्यादा बिगड़ सकते हैं। हालांकि अगर चंद्र-राहु और शुक्र-राहु की युति पर बृहस्पति की दृष्टि हो तो जातक नशे की लत से आसानी से मुक्ति पा सकता है।

अगर रखेंगे इन तीन बातों का ख्‍याल, तो घर में हमेशा रहेगा लक्ष्‍मी जी का वास