नास्‍त्रेदमस ने की तीसरे विश्‍व युद्ध की भविष्‍यवाणी, जानिए 10 बड़ी बातें   

Third World War

नास्‍त्रेदमस ने अपनी भविष्‍वाणी की पुस्‍तक में तीसरे विश्‍व युद्ध का जिक्र किया है। उनकी भविष्‍यवाणियों के जानकारों के अनुसार 2009 से 2013 तक दुनिया में बड़ी क्रांतियां होंगी। फ‍िर 21वीं शताब्‍दी में तीसरा विश्‍व युद्ध होगा, जो मेसोपोटामिया की पवित्र भूमि में छिड़ेगा।

हमने नास्‍त्रेदमस की भविष्‍वाणियों के हिंदी अनुवाद को जस का तस रख दिया है, जो इस युद्ध से जुड़ी हुई मानी जाती हैं। हालांकि ये कल्‍पना और संभावनाओं पर आधारित है, जिसकी सच्‍चाई की हम पुष्टि नहीं करते हैं।

1. धर्म बांटेगा लोगों को। काले और सफेद तथा दोनों के बीच लाल और पीले अपने-अपने अधिकारों के लिए भिड़ेंगे। रक्‍तपात, बीमारियां, अकाल, सूखा, युद्ध और भूख से मानवता बेहाल होगी।

2. एक पनडुब्‍बी में तमाम हथियार और दस्‍तावेज लेकर वह व्‍यक्ति इटली के तट पर पहुंचेगा और युद्ध शुरू करेगा। उसका काफ‍िला बहुत दूर से इतालवी तट तक आएगा।

3. लाल के खिलाफ एकजुट होंगे लोग, लेकिन साजिश और धोखे को नाकाम कर दिया जाएगा। पूरब का वह नेता अपने देश को छोड़कर आएगा, पार करता हुआ इटली के पहाड़ों को और फ्रांस को देखेगा। वह वायु, जल और बर्फ से ऊपर जाकर सभी पर अपने दंड का प्रहार करेगा।

4. एक-दूसरे से अजनबी साम्राज्‍य के खिलाफ बगावत करेंगे। एक ऊंचे सपने और आजादी के लिए सबकुछ दांव पर लगा देंगे। एक किला आजाद करा लिया जाएगा और हुकुमत देखती रह जाएगी। भारी मारकाट से वह बौखला जाएगा। एक नेता अपने देश से दूर किसी पनडुब्‍बी में छिपकर जाएगा और अलग भाषा व संस्‍कारों वाले लोगों की मदद से अपने देश के हजारों लोगों को रास्‍ता दिखाएगा। वह एक युद्ध में भाग लेगा, जिसमें बहुत से लोग मारे जाएंगे।

5. अनीश्‍वरवादी और ईश्‍वरवादियों के बीच संघर्ष होगा।

6. जब तृतीय युद्ध चल रहा होगा उस दौरान चीन के रासायनिक हमले से एशिया में तबाही और मौत का मंजर होगा, ऐसा जो आज तक कभी नहीं हुआ।

7. एक मील व्‍यास का एक गोलाकार पर्वत अंतरिक्ष से गिरेगा और महान देशों को समुद्री पानी में डुबो देगा। यह घटना तब होगी, जब शांति को हटाकर युद्ध, महामारी और बाढ़ का दबदबा होगा। इस उल्‍का द्वारा कई प्राचीन अस्तित्‍व वाले महान राष्‍ट्र डू जाएंगे।

8. बाढ़ के बाद आएगए एक ऐसा साल जब दो मुखिया चुने जाएंगे। इनमें से पहला सत्‍ता छोड़ देगा वह कलंक से बचने के लिए ऐसा करेगा। परंतु दूसरे के सामने और कोई चारा नहीं होगा। पहले मुख्यिा को बनाने वाला घर भंग हो जाएगा।

9. चीन की फौजें जब फ्रांस में घुसेंगी तब जमकर आणविक और किटाणु अस्‍त्रों का प्रयोग होगा। इसके बाद ये फौजें पूर्वी यूरोप के भीतर तक घुज जाएंगी। वहां से दक्षिण स्‍पेन पर अरब फौजों की मदद से हमला किया जाएगा।

10. ईरानवासी एक अरब मुख‍िया दक्षिण पूर्वी स्‍पेन पर काबू पा लेगा। शनि और मंगल सिंह राशि में होंगे तब स्‍पेन हाथ से जाता रहेगा। फ्रांसीसी हार ही जाएंगे। फ‍िर पूर्वी हमलावर यूरोप पर भारी बमबारी करेगा। इटली को ही ये लोग प्रमुख अड्डा बनाएंगे। यूरोप परमाणु हमले का शिकार होगा। फ‍िर होगा स्विट्जरलैंड पर हमला। वहां के बैंकों का खजाना लूटा जाएगा। स्विस सेना कुछ न कर पाएगी।