अपार धन की होगी प्राप्ति, दीपक के ऐसे प्रयोग से खुश होती हैं मां लक्ष्‍मी

घर या व्‍यापार वाली जगह पर सुबह-साम दीपक प्रज्‍जवलित करने से सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। दीपक जलाना केवल आस्था का ही विषय नहीं बल्कि इसके धुएं से वातावरण में मौजूद हानिकारक सूक्ष्म कीटाणु-विषाणु भी नष्ट हो जाते हैं। यही वजह है कि सभी धर्मों में प्राय: दीपक और अगरबत्ती या धूप जलाने की परंपरा रही है। विशेष रूप से हिंदू धर्म में इसकी मान्‍यता सबसे अधिक है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि विभिन्न प्रकार के दीपकों का संबंध विभिन्न देवताओं से है। आइए, जानते हैं कि मां लक्ष्मी एवं दूसरे देवी-देवताओं को प्रसन्ने करने के लिए घर और व्यापार वाले स्थान पर किस तरह का दीपक जलाएं।

सातमुखी दीपक जलाने से प्रसन्‍न होती हैं मां लक्ष्‍मी
अगर आप मां लक्ष्मी की कृपा चाहते हैं तो घर हो या व्यापार, पूजा वाले स्थान पर सातमुखी दीपक जलाएं। ध्यान रखें कि आप दीपक में शुद्ध गाय के घी का प्रयोग किया जाए। तेल का दीपक मां लक्ष्मी के आगे नहीं जलाना चाहिए। दीपक जलाने का समय भी तय होना चाहिए। अगर आप सुबह 8 बजे और शाम 6 बजे दीपक जलाते हैं तो इसे अपने रुटीन में शामिल कर लीजिए।

इन दीपकों को जलाकर पाएं विभिन्न देवताओं की कृपा
प्रत्‍येक देवी-देवता को प्रसन्‍न करने के लिए अलग-अलग तरह के दीपकों का प्रयोग किया जाता है। गणेशजी की कृपा पाने के लिए तीन बत्तियों वाला दीपक जलाया जाता है। व्यापार मे आर्थिक लाभ पाने के लिए शुद्ध देशी गाय के घी का दीपक का प्रयोग किया जाता है। वैसे ही शत्रुओं व विरोधियों के दमन के लिए भैरवजी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाने से लाभ होता है। अच्छे स्वास्थ्य और आरोग्‍यता के लिए महुए के तेल का दीपक जलाने से अल्पायु योग भी नष्ट हो जाता है।