Basant Panchami: आज करें सब बाधाओं को दूर, बस करें यह आसान उपाय

basant panchami 2021

16 फरवरी यानी आज बसंत पंचमी (Basant Panchami) है। यह पर्व जीवन में ज्ञान और शिक्षा के महत्‍व को दर्शाता है। ज्ञान हर प्रकार के अंधकार को दूर करने की क्षमता रखता है। बसंत पंचमी का पर्व शिक्षा आरंभ करने के लिए सबसे उत्‍तम माना गया है। इसलिए इस दिन छोटे बच्‍चों की शिक्षा का आरंभ किया जाता है। बसंत पंचमी के दिन बिना मुहूर्त को देखे शुभ और मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं।

बसंत पंचमी के दिन उन लोगों को विशेष पूजा अर्चना करनी चाहिए जिनके जीवन में शिक्षा संबंधी कोई न कोई बाधा बनी ही रहती है।

बसंत पचंमी के दिन मां सरस्‍वती की विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए। आपको बता दें कि बसंत पंचमी का पर्व 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट से आरंभ होगा जो 17 फरवरी को पंचमी की तिथि के साथ ही समाप्‍त होगा। इस दिन मां सरस्‍वती की पूजा विधिपूर्वक करनी चाहिए और मां को वाद्य यंत्र और पुस्‍तकें आदि अर्पित करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: आने वाले चार साल होंगे बेहद खास, इन लोगों पर बरसेगा धन

लाभ के लिए ऐसे करें पूजा

यह दिन अपने कार्य की शुरूआत के लिए बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन के लिए पीले रंग का विशेष महत्‍व माना गया है। बसंत पंचमी के दिन पीले फूल, पीले मिष्‍ठान मां सरस्‍वती पर अर्पित किए जाते हैं। माना जाता है कि भगवान विष्‍णु को पीला रंग बहुत पसंद है। इस दिन पीले वस्‍त्र पहनने और भेंट करने चाहिए। मां सरस्‍वती का अधि‍क से अधिक लाभ प्राप्‍त करने के लिए इस दिन विशेष रूप से पीले रंग के कपड़े पहनें और पीला भोजन बनाएं। सर्वप्रथम मां की मूर्ति को स्‍नान कराकर पीले वस्‍त्र और फूल चढ़ाएं। साथ ही उन्‍हें पीले चंदन का तिलक लगाएं। मां सरस्‍वती की स्‍तुति कर पीले चावल तथा मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाएं। इस दिन कई लोग अपनी कलम और बहिखाते की पूजा भी करते हैं। पूजा संपन्‍न करने के बाद प्रसाद घर के सभी लोगों को प्रदान करें।

आज करें इन मंत्रों का जाप

ऊं ऐं हींम क्‍लीं महासरस्‍वती देव्‍यै नम:..

ऊं हींम ऐं हींम सरस्‍वत्‍यै नम:..