शुक्रवार के दिन मां लक्ष्‍मी को ऐसे करें प्रसन्‍न, घर में होगी धन वर्षा

lakshmi puja

मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करना जितना कठिन होता है उतना ही आसान वैभव लक्ष्‍मी का व्रत करना है। मां लक्ष्‍मी की कृपा से सभी मनोकामना पूरी हो जाती है। इस व्रत को कोई भी कर सकता है पर सुहागिन स्त्रियों के लिए इसे अधिक शुभदायी माना गया है। इस व्रत को 7, 11 या 21 शुक्रवार किया जाता है। व्रत के दिन मां लक्ष्‍मी के पूजन से दिन आरंभ करें तो दिन शुभ होगा। वैभव लक्ष्‍मी का व्रत शुरू करने से पहले इसके नियम को जानना बेहद जरुरी है। आलसी लोगों से मां लक्ष्‍मी हमेशा दूरी बनाकर रखती है
इसलिए पूरे दिन एक्टिव रहें। शुक्रवार के दिन घर को साफ-सुथरा रखना आवश्‍यक है।

पाना चाहते हैं स्लिम फिगर तो अपनाएं यह मैजिकल डाइट प्‍लान

ऐसे मिलेगा फल

शुक्रवार के दिन घर में ऐसी तस्‍वीर लगाएं जिसमें मां लक्ष्‍मी के हाथों से धन गिर रहा हो। यदि आपके हाथों में पैसा नहीं रुकता और बहुत अधिक खर्च है तो ऐसी तस्‍वीर लगाएं जिसमें मां वैभव लक्ष्‍मी खड़ी हों और उनके हाथों से धन की वर्षा हो रही हो। मां की तस्‍वीर के सामने हमेशा घी का दिया लगाएं। मां लक्ष्‍मी को सुगंध पसंद है इसलिए उनपर इत्र चढ़ाएं। यदि आपको धन अधिक खर्च हो रहा है तो मां के चरणों में प्रतिदिन एक रुपए का सिक्‍का अर्पित करें। उसे जमा करके महीने के अंत में किसी धनी स्‍त्री को दें। इसके अलावा यदि आप मां लक्ष्‍मी की प्रतिदिन विधिवत पूजा नहीं कर पा रहे हैं तो प्रत्‍येक शुक्रवार मां लक्ष्‍मी की व्रत कथा का पाठ करें। ऐसा करने से मां की कृपा आप पर बरसेगी।

अप्रैल के दूसरे सप्‍ताह में शुरू होगी नवरात्रि, जानें माह के व्रत-त्‍योहार

आपने जितने भी व्रत करने का संकल्‍प किया है उसका उद्यापन अवश्‍य करें। इसके लिए आपको सात, ग्‍यारह या इक्‍कीस कुंवारी कन्‍याओं को भोजन करना चाहिए। व्रत पुस्‍तक के साथ श्रृंगार की वस्‍तु दान में देनी चाहिए। इसी संख्‍या में सुहागिन महिलाओं से उद्यापन की विधि पूर्ण करनी चाहिए। मां को प्रसाद में खीर का भोग लगाएं। मां अवश्‍य प्रसन्‍न होंगी।