भगवान राम को ऐसे करें प्रसन्‍न, जानें पूजा का सही तरीका व मुहूर्त

ram navmi

चैत्र नवरात्रि के बाद राम नवमी का पावन पर्व मनाया जाएगा। पंचांग के अनुसार राम नवमी 21 अप्रैल 2021 को पड़ेगी। हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्‍व है। मान्‍यता है कि भगवान राम का जन्‍म चैत्र मास की शुक्‍ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था। माना जाता है कि इस दिन भगवान राम की पूजा करने से सभी समस्‍याएं दूर हो जाती हैं।

बिजनेस पर असर डालती है घर की स्थिति, कामयाबी के लिए करें ये बदलाव

राम नवमी सभी के घरों में बड़े हर्षोउल्‍लास से मनाई जाती है। भगवान राम को प्रसन्‍न करने के लिए पूजा के नियमों

को ध्‍यान में रखना बेहद जरूरी है। 21 अप्रैल को सुबह जल्‍दी उठकर स्‍नान कर लेना चाहिए। मंदिर में भगवान की मूर्ति को साफ करके नए वस्‍त्र पहनाएं। भगवान की मूर्ति के सामने घी का दीया लगाएं। समयनुसार रामारण या राम चालिसा का पाठ करें। भगवान राम की स्‍तुति भी पढ़ सकते हैं। सभी देवी-देवताओं का स्‍मरण करके आर्शीवाद लें। भगवान राम को लड्डुओं का भोग लगाएं। हो सके तो भगवान राम को बेर का भोग लगाएं। मान्‍यता है कि बनवास के समय देवी शबरी ने भगवान राम को बेर का भोग लगाया था उनके सभी समस्‍याओं का निवारण किया था।

सिर्फ दो लौंग है अनेकों मर्ज की दवा, जानें सेवन का सही तरीका

पूजा का शुभ मुहूर्त

दिनांक : 21 अप्रैल

मुहूर्त : सुबह 11 बजकर 2 मिनट से दोपहर 1 बजकर 38 मिनट तक

समयावधी : 2 घंटे 36 मिनट