Chhath Puja 2020: क्‍यों मनाया जाता है छठ त्‍योहार, इस तरह होगी मन्‍नत पूरी

chhath puja 2020

देश के कई राज्‍यों में आज से छठ पूजा chhath puja 2020 की शुरूआत हो चुकी है। बिहार और उत्‍तर प्रदेश  में इस त्‍योहार को बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। दिवाली के बाद छठ का त्‍योहार आता है। जानकारी के लिए बता दें कि छठ पूजा चार दिन का त्‍योहार है। इसमें चारों दिन सूर्य देवता की अराधना की जाती है। कई लोग इस दौरान मन्‍नत मानते हैं और व्रत भी रखते हैं। छठ त्‍योहार को अन्‍य कई रूप में मनाया जाता है जैसे प्रतिहार, डाला छठ और सूर्य षष्‍ठी। छठ पूजा हिंदू देवता सूर्य को खुश करने और

धन्‍यवाद करने के लिए मनाया जाता है। इसमें चार दिनों तक लोग व्रत रखकर नदी के तट पर सूर्यास्‍त के समय अर्घ्‍य देते हैं।

व्रत के पहले दिन लोग गंगा में डुबकी लगाकर सूर्य देवता की पूजा कर इस त्‍योहार की शुरुआत करते हैं। ज्‍यादातर लोग कद्दू की सब्‍जी और चावल खाते हैं। इसके साथ ही दूसरे दिन लोहंड नाम से मनाते हैं। तीसरे दिन लोग शाम के वक्‍त डूबते सूरज की पूजा करते हैं। वहीं चौथे दिन लोग सूर्यादय अर्घ करके अपना व्रत खोलते हैं। छठ पूजा 18 नवंबर से 21 नवंबर तक चलेगी। इस दौरान यदि सही मुहूर्त और समय पर पूजा की जाए तो मनोकामना जरुर पूरी होती है।

जानें सूर्योदय और सूर्यास्‍त का सही मुहूर्त

पहला दिन चतुर्थी (नहाय खाय)

सूर्योदय- 6:45 प्रात:

सूर्योस्‍त – 5:25 सांय

दूसरा दिन पंचमी (लोहंडा और खरना)

सूर्यास्‍त – 6:46

सूर्यास्‍त – 5:25 सांय

तीसरा दिन षष्‍ठी (छठ पूजा, संध्‍या अर्घ्‍य)

सूर्योदय- 6:47 प्रात:

सूर्यास्‍त – 5:25 सांय

चौथा दिन सप्‍तमी (उषा अर्घ्‍य, पारण दिवस)

सूर्योदय – 6:48 प्रात:

सूर्यास्‍त- 5:24 सांय