पितृ पक्ष में जरूर करें इन चीजों का दान, मिलेगी गरीबी से मुक्ति

Pitru Paksha 2020 donation

पितृपक्ष के 16 दिनों के दौरान श्राद्ध, तर्पण, पिंडदान आदि कर्मकांड कर पितरों को प्रसन्‍न किया जाता है। पितृ पक्ष में दान का भी बहुत अधिक महत्‍व होता है। ज्‍योतिषाचार्यों के अनुसार दान से पितरों क आत्‍मा को संतुष्टि मिलती है ओर पितृदोष भी खत्‍म हो जाते हैं।

श्राद्ध के दिनों में गाय, तिल, भूमि, नमक, घी आदि का दान करने की पुरातन परंपरा रही है। धर्म ग्रंथों में भी श्राद्ध पक्ष में दान की गई वस्‍तु से मिलने वाले फलों के बारे में विस्‍तारपूर्वक व्‍याख्‍या की गई है। आइए आज हम यहां श्राद्ध पक्ष के दौरान दान की जाने वाली वस्‍तु से प्राप्‍त होने वाले फलों के बारे में जानते हैं:

गुड़ का दान

गुड़ का दान करने से पूर्वजों का आशीर्वाद मिलता है, जिससे घर व परिवार में कलह नहीं होती है और दरिद्रता का नाश होता है। गुड़ के दान को सुख और धन प्राप्‍ति देने वाला माना गया है।

गाय का दान

धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो गाय का दान सभी दानों में श्रेष्‍ठ माना जाता है। श्राद्ध पक्ष में गाय का दान करने से सुख और संपत्ति दायक माना गया है। गाय का दान करने से घर में सुख-शांति और संपत्ति की बारिश होती है।

घी का दान

घी का दान भी बहुत महत्‍वपूर्ण है। एक बर्तन में घी रखकर ब्राहम्‍ण को दान करने से शुभ और मंगलकारी आशीर्वाद प्राप्‍त होता है। पूर्वजों की कृपा से धन-संपदा की कमी नहीं रहती।

अन्‍न दान

अन्‍नदान में गेहूं,  चावल और दालों को दानस्‍वरूप देना चाहिए। यह दान संकल्‍प के साथ करने से मनवांछित फल मिलता है। घर में सुख, संपत्ति और समृद्धि आती है।

भूमि दान

यदि आप आर्थिक रूप से संपन्‍न हैं तो श्राद्ध पक्ष में किसी कमजोर या गरीब ब्राहम्‍ण को भूमि दान करना बहुत फलदायी माना गया है। इस दान से संपत्ति और संतान का सुख प्राप्‍त होता है।

स्‍वर्ण दान

सोने के दान को कलह का नाश करने वाला माना गया है। अगर सोने का दान करना आपके लिए संभव न हो तो आप सोने के दान के निमित्‍त यथाशक्ति धन का दान भी कर सकते हैं।

वस्‍त्र दान

वस्‍त्र दान हमेशा जोड़े से करना ही फलदायी होता है। नए वस्‍त्र को जोड़े में खरीदकर दान करने से घर पर लक्ष्‍मी जी की कृपा बरसती है।

चांदी दान

श्राद्ध पक्ष के दौरान चांदी के दान को बहुत प्रभावकारी माना गया है। चांदी का दान करने से पितरों का आशीर्वाद के फलस्‍वरूप संतुष्टि प्राप्‍त होती है।

तिल दान

श्राद्ध के हर कर्म में मिल का बहुत अधिक महत्‍व है। ब्राहम्‍ण को दिए जाने वाले दान में यदि तिल को शामिल किया जाए तो यह बहुत ही उत्‍तम रहेगा। काले तिल का दान करने से संकट, विपदाओं से मुक्ति मिलती है और घर में सुख-शांति बनी रहती है।

नमक का दान

श्राद्ध पक्ष में पंडितों को सीधे के रूप में आटा, दाल, चावल, गुड़, आलू, पापड़ के साथ नकम के दान का बहुत अधिक महत्‍व है। इस तरह के दान से घर में कभी भी धन की कमी नहीं रहती है।