यह टोटका पूरा करेगा अधूरे काम, करना होगा मां दुर्गा का आव्‍हान

जीवन में कभी खुशी है तो कभी गम। हमारी तरक्‍की के बीच में कई ऐसे रोड़े आते हैं जिन्‍हें हटाया जाना बेहद जरूरी है। किंतु कई बार भाग्‍य साथ नहीं देता और लाख कोशिशों के बाद भी निराशा ही हाथ लगती है। आपको बता दें कि हिंदू धर्म में टोटकों को काफी मददगार और प्रभावशाली माना जाता है। हम आपको कुछ ऐसे ही टाटकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं जिनकी मदद से आपके सभी अटके कार्य शीघ्र ही पूरे होने लगेंगे।

अपने अधूरे और अटके कार्यों को पूरा करने के लिए आप यह उपाय अपना सकते हैं। इन टोटकों को पूरा करने के लिए आपको अधिक समय लग सकता है लेकिन काम जरूर पूरा हो जाएगा। अटके कार्य को पूरा करने के लिए आपको मां दुर्गा के समक्ष अपने कार्य की पूर्णता के लिए सच्‍चे मन से अरदास लगानी पड़ेगी। जैसे-जैसे टोटका असर करेगा आपके कार्य में आने वाली हर अड़चन अपने आप ही दूर होने लग जाएगी।

अपनाएं यह कारगर उपाय

आपको बता दें कि इस कार्य को केवल शुक्‍ल पक्ष के किसी भी बुधवार के दिन करना होगा। सबसे पहले आप तीन कागज के टुकड़े वर्गाकार आकर में लेलें। फिर कुमकुम में जल मिलाकर एक कलम द्वारा तीनों कागज पर मां दुर्गा के इस मंत्र को लिखें- ‘ऊं दूं दुर्गाय नम:’। अब तीनों कागज पर थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पीसी हुई हल्‍दी रख लें।

अब तीनों कागज की छोटी-छोटी पुडियां बना लें। तीनों कागजों की पुडियां बनाने के बाद मां दुर्गा के मंदिर जाएं। मां की मूर्ति के समक्ष खड़े होकर तीनों पुडियां को दायें हाथ में लेकर मां से अपने कार्य की पूर्णता की अरदास लगाएं और तीनों पुडियों में से एक पुडिया मां के चरणों में रख दें।

वहीं दूसरी पुडियां को किसी बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें और तीसरी पुडिया को अपने पर्स में या पूजा के स्‍थान पर रखें। इस प्रयोग को करने के पश्‍चात ठीक 7 दिन बाद अगले बुधवार को उपरोक्‍त विधि के अनुसार इस बार दो पुडियां बनाएं।

उसी प्रकार फिर से मां दुर्गा के मंदिर जाकर दोनों पुडियां हाथ में लेकर मां से कार्य की पूर्णता की फिर से अरदास लगाएं। एक पुडिया को मां के समक्ष रख दें और दूसरी पुडिया को बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें। सात दिन बाद फिर से यह प्रक्रिया दोहराएं। सच्‍चे मन से मां से सामने अरदास करें धीरे-धीरे आपके काम बनने लगेंगे। जैसे ही आपका कार्य पूर्ण हो जाता है आप उस तीसरी पुडिया जो आपने पर्स या मंदिर में रखी है उसे भी बहते जल में प्रवाहित कर दें।