धन, सुखशांति और भाग्योदय का मिलेगा फायदा, करें कपूर और लौंग के ये आसान प्रयोग

हिन्दू धर्म में पूजा का बहुत अधिक महत्व है। हर व्यक्ति के जीवन में कभी न कभी कोई परेशानी जरूर आती है और समय के साथ वह परेशानी दूर भी हो जाती है। लेकिन कभी-कभी ऐसा भी होता है कि परेशानियां जाने का नाम ही नहीं लेती हैं। आज हम आपको कपूर और लौंग से जुड़े कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जिसे करके आप अपने सभी परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं। दरअसल हिन्दू धर्म में भगवान की आराधना करने के लिए कपूर का इस्तेमाल किया जाता है। यदि पूजा की सामग्री में कपूर न हो तो पूजा अधूरी मानी जाती है।

वास्तु शास्त्र के अनुसार कपूर और लौंग, घर में उत्पन्न होने वाली नकारात्मकता ऊर्जा को दूर करते हैं। इतना ही नहीं वास्तु शास्त्र में कपूर और लौंग से जुड़े कई उपाय बताये गए हैं जिसे करके आप अपनी बंद किस्मत के दरवाजे खोल सकते हैं। इसके अलावा, घर में चल रही परेशानियों को भी दूर किया जा सकता है। इन उपायों के जरिये आप अपने जीवन में आने वाली सभी परेशानियों को दूर कर सकते हैं।

कपूर और लौंग के उपाय

वास्तु दोष

यदि आपके घर या ऑफिस में वास्तुदोष से संबंधित कोई समस्या है तो आप अपने घर और ऑफिस में कपूर की दो टिकिया अवश्य रखें और जब ये ख़त्म होने लगे तो फिर से दो टिकिया रख दें। यह आपके घर-ऑफिस के वास्तु दोष के प्रभाव को कम करती है।

धन प्राप्ति के लिए

यदि आपकी किस्मत आपका साथ नहीं दे रही है और आपके घर में पैसा नहीं ठहर रहा है तो चांदी के कटोरी में (चांदी की कटोरी न हो तो दूसरे बर्तन में) कपूर और लौंग रखकर जला दें। ऐसा करने से आपके घर में धन का ठहराव होने लगेगा।

सुख शांति

यदि आपके घर में अक्सर कलह रहता है तो घर में कलह न हो, इसके लिए आप कपूर को घी में भिंगो दें। इसके बाद कपूर को सुबह और शाम के समय जलाएं। ऐसा करने से आपके घर में शांति का माहौल हमेशा बना रहेगा।

विवाह हेतु

यदि आपके विवाह में कोई बाधा आ रही है तो यह उपाय बहुत ही कारगर है। 36 लौंग और 6 कपूर के टुकड़े लें। इसमें हल्दी और चावल मिलाकर इससे मां दुर्गा को आहुति दें। आपकी समस्या जल्द ही दूर हो जाएगी ।

भाग्य में वृद्धि पाने के लिए

अगर आपका भाग्य आपसे रूठा हुआ हैं और आपको दुर्भाग्य ने घेर रखा है तो आप पानी में कपूर के तेल की कुछ बूंदों को डालकर नहाएं। यह आपको तरोताजा तो रखेगा ही आपके भाग्य को भी चमकाएगा। यदि इस में कुछ बूंदें चमेली के तेल की भी डाल लेंगे तो इससे राहु, केतु और शनि का दोष नहीं रहेगा, लेकिन ऐसा सिर्फ शनिवार को ही करें।