इस तारीख से शुरू हो रही है चैती छठ पूजा, ब्रह्म मुहूर्त में रखें व्रत  

chaiti chhath puja

अप्रैल में जहां चैत्र नवरात्रि की शुरुआत होने वाली है वहीं आस्‍था का महापर्व चैती छठ प्रारंभ होने वाला है। यह पर्व चैत्र महीने और कार्तिक महीने में काफी धूमधाम से मनाया जाता है। इस वर्ष चैती छठ पूजा 16 अप्रैल से शुरू होकर 19 अप्रैल तक संपन्‍न होगी। चार दिन तक चलने वाले इस पर्व के नियम बहुत कठिन है जिसे सावधानी से किया जाता है।

रात में दूध के साथ इसे लेने से जोड़ों का दर्द होगा छूमंतर

चैती छठ पूजा 16 फरवरी से शुरू होकर 19 अप्रैल तक चलेगी।16 अप्रैल शुक्रवार को चतुर्थी के दिन नहाय-खाय किया

जाएगा।17 अप्रैल को पंचमी तिथि में लोहंडा या खरना होगा। वहीं 18 अप्रैल को षष्‍ठी तिथि में सांयकाल को सूर्य देवता को अर्घ्‍य दिया जाएगा। महिलाएं शाम के समय नदी या तालाब में खड़ी होती हैं और सूर्य भगवान से प्रार्थना करती है। साथ ही ए‍क निश्चित समय में सूर्य देवता को अर्घ्‍य देती हैं।19 अप्रैल को सप्‍तमी तिथि में सूर्य देव को सुबह का अर्घ्‍य दिया जाएगा। इस दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले नदी या तालाब में प्रार्थना के लिए खड़ी हो जाती हैं। अर्घ्‍य देने के बाद कुछ खाकर अपना व्रत तोड़ती हैं।

ये नन्हा सा पौधा देगा खुशियां अपार, घर में सदा रहेगी सुख-शांति

छठी मैया की होगी पूजा

चैती छठ में छठी मैया की पूजा की जाती है। आपको बता दें कि छठी मैया भगवान सूर्य की मानस बहन है। माना जाता है कि छठी मैया बच्‍चों की रक्षा करने वाली देव है और संतान को लंबी आयु का वरदान देती हैं। यह व्रत काफी कठिन होता है इसलिए सावधानी से इसका पालन करना पड़ता है।