जानिए हिंदुओं के लिए क्‍यों जरूरी है देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाह

Tulsi-vivah-2020

आज कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि और दिन बुधवार है। एकादशी तिथि बुधवार से शुरू होकर गुरुवार सुबह 5 बजकर 11 मिनट तक रहेगी। कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी कहते हैं। इसे प्रबोधिनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। आज के दिन विशेष रूप से भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना की जाती है। आज के दिन चातुर्मास समाप्त होते हैं। चातुर्मास के दौरान भगवान विष्णु का शयनकाल होता है।

चार्तुमास के इन चार महीनों के दौरान विवाह आदि सभी शुभ कार्य बंद होते हैं। देवउठनी एकादशी से शादी-विवाह जैसे सभी मांगलिक कार्य फिर से शुरू हो

जाएंगे। प्रबोधिनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह कराने की भी परंपरा है। आज शालीग्राम और तुलसी का विवाह कराया जाता है। कहते हैं कि जो कोई भी ये शुभ कार्य करता है, उनके घर में जल्द ही शादी की शहनाई बजती है।

आज पूरा दिन पूरी रात पार कर कल सुबह 7 बजकर 34 मिनट तक सिद्धि योग रहेगा। इस योग के दौरान कोई भी कार्य शुरू करने से उसमें सफलता जरूर मिलती है। चाहें फिर वह बिजनेस से संबंधित काम हो या पढ़ाई से। आज शाम 6 बजकर 20 मिनट तक रवि योग रहेगा। इस योग में कोई भी काम करने से आपको सफलता जरुर मिलेगी। चाहे वह आपका कोई सरकारी काम हो यां फिर कोई पुराना काम हो जिसे आप पूरा करना चाहते हो।

  •    अगर आप अपना मनपसंद जीवनसाथी पाना चाहते हैं, तो आज ॐ नमो भगवते नारायणाय मंत्र का जप करते हुए तुलसी के पौधे में केसर मिश्रित दूध अर्पित करें। साथ ही भगवान विष्णु को भी केसर मिश्रित दूध का भोग लगाएं।
  •     आपके जीवन में किसी प्रकार का संकट न आए, आपका जीवन बिना किसी रुकावट के चलता रहे, इसके लिए आज  शाम के समय तुलसी के पौधे के नीचे घी का एक दीपक जलाएं। संभव हो तो गाय के घी का दीपक जलाएं और तुलसी के पौधे को प्रणाम करते हुए अपने अच्छे जीवन के लिये प्रार्थना करें।
  •     अगर आप अपने दाम्पत्य संबंधों को सुखमय और मधुर बनाना चाहते हैं, तो आज  तुलसी के पौधे में श्रृंगार का सामान चढ़ाकर उसकी पूजा करनी चाहिए और पूजा के बाद सारा सामान किसी सुहागिन महिला को भेंट कर देना चाहिए।
  • अगर आपकी बेटी के विवाह में किसी प्रकार की अड़चन आ रही है, तो उन अड़चनों से छुटकारा पाने के लिए आज आपको पांच तुलसी दल लेकर, उस पर हल्दी का टीका लगाकर श्री हरि को अर्पित करना चाहिए।
  • अगर आप अपनी संतान के दाम्पत्य जीवन को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो आज आपको भगवान विष्णु और तुलसी के पौधे की विधि-पूर्वक पूजा करनी चाहिए और भगवान को इलायची का जोड़ा अर्पित करना चाहिए। पूजा के बाद उस इलायची के जोड़े को अपनी संतान को खाने के लिये दे दें।
  • अगर आप अपनी आर्थिक सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो आज  तुलसी को भोग के रूप में बताशे अर्पित करें और पौधे के पास घी का एक दीपक जलाएं। साथ ही भगवान विष्णु की धूप-दीप, पुष्प आदि से पूजा करें और पूजा के समय कुछ सिक्के और कौड़ियां रखें। जब पूजा समाप्त हो जाये, तो उन सिक्को और कौड़ियों को संभालकर अपनी तिजोरी में रख दें।
  • अगर आप अपनी नौकरी में अच्छी आमदनी पाना चाहते हैं, तो आज भगवान श्री विष्णु को हल्दी का टीका लगाएं और तुलसी दल से उनकी पूजा करें। पूजा के बाद हाथ जोड़कर भगवान से प्रार्थना करें।
  •     अगर आप अपने जीवन में सौभाग्य को बनाये रखना चाहते हैं, तो आज  तुलसी के पौधे पर लाल चुनरी चढ़ाएं और भगवान श्री विष्णु को एकाक्षी नारियल अर्पित करें।
  •     अगर आप अपनी जिंदगी में भरपूर ऊर्जा बनाये रखना चाहते हैं, तो आज आपको तुलसी के पौधे की जड़ के पास एक पीले रंग का कपड़ा रखना चाहिए और तुलसी जी को मिश्री का भोग लगाना चाहिए। भोग लगाने के बाद बचे हुए प्रसाद को परिवार के सब सदस्यों में बांट दें और वहां रखे पीले रंग के कपड़े को अगले दिन ब्राह्मण को दान कर दें।
  •     अगर आप अपनी जिंदगी को हमेशा खुशहाल देखना चाहते हैं, तो आज आपको आटा भूनकर, उसमें शक्कर मिलाकर पंजीरी का प्रसाद बनाना चाहिए और उसमें केले के टुकड़े और साबुत तुलसी की पत्तियां भी डालनी चाहिए। अब भगवान विष्णु की विधि-पूर्वक पूजा करें और उन्हें इस प्रसाद का भोग लगाएं। इसके बाद बाकी बचे प्रसाद को परिवार के सब सदस्यों में बांट दें।
  •     अगर आप हर क्षेत्र में कामयाब होना चाहते हैं, जीवन की बुलंदियों को छूना चाहते हैं, तो आज भगवान श्री विष्णु की मूर्ति और तुलसी के पौधे की पूजा करके, उन्हें मन्दिर में दान कर दें।
  •     अगर आप शादीशुदा हैं और आपकी शादी शुदा जिंदगी में कुछ परेशानी चल रही हैं, तो आज  आप दोनों को मिलकर दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर भगवान श्री विष्णु को अर्पित करना चाहिए। साथ ही मन्दिर के प्रांगण में या किसी बाग-बगीचे में तुलसी का पौधा रोपित करना चाहिए।