जानिए कब है गुड़ी पड़वा, इस मुहूर्त पर पूजा से मिलेगा विशेष फल

gudi padwa

अप्रैल माह की शुरुआत हो चुकी है और इसके साथ ही शुरू हो चुके हैं विभिन्‍न तीज-त्‍योहार। पंचांग के अनुसार 13 अप्रैल मंगलवार को चैत्र मास की शुक्‍ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गुड़ी पड़वा का पर्व मनाया जाएगा। आपको बता दें कि इस दिन से नवरात्रि पर्व की भी शुरुआत होगी। वैसे तो गुड़ी पड़वा का पर्व पूरे देश में मनाया जाता है लेकिन महाराष्‍ट्र में इसका विशेष महत्‍व है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार गुड़ी पड़वा से ही हिंदू नववर्ष आरंभ होता है। गोवा और केरल में इस त्‍योहार को संवत्‍सर पड़वो के नाम से जाना जाता है।

हर राज्‍य में गुड़ी पड़वा को अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

कोरोना काल में महिलाओं को हो रही है ये समस्या, क्यों है मेंटल हेल्थ जरूरी

 विशेष महत्‍व

गुड़ी पड़वा के दिन सभी के घरों में मीठी रोटी बनाई जाती है जो कि गुड़ और चने की दाल से बनाई जाती है। महाराष्‍ट्र में इसे पूरनपोली कहा जाता है। पूरन पोली के साथ गुड़, नीम के फल, नमक और कच्‍चा आम भी खाया जाता है। आपको बता दें कि इस दिन सूर्य देवता की पूजा की जाती है। गुड़ी पड़वा पर महाराष्‍ट्रियन अपने घर के बाहर नया कपड़ा और लोटा गमले में गाड़कर लगाया जाता है। यह काफी शुभ माना जाता है। वहीं कई लोग घर में हल्‍दी कुमकुम सेलिब्र‍ेट करती हैं। इसमें कई महिलाओं को इकट्ठा कर माथे पर कुमकुम लगाकर अभिवादन किया जाता है। यह पर्व महिलाएं पूरे मनोरंजन के साथ मनाती हैं।

चैत्र नवरात्रि पर इस दिन बन रहा है विशेष योग, जानें नव ग्रहों की स्थिति

 शुभ मुहूर्त

गुड़ी पड़वा की तिथि: 13 अप्रैल

प्रतिपदा तिथि आरंभ: 12 अप्रैल सुबह8 बजे से

प्रतिपदा तिथि समाप्‍त: 13 अप्रैल सुबह 10 बजकर 16 मिनट तक