इस दिन से लगेगा होलाष्‍टक, जानें होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होलाष्‍टक को ज्‍योतिष की दृष्टि में एक होलाष्‍टक दोष माना जाता है जिसमें विवाह, गर्भाधान, गृह प्रवेश, निर्माण आदि शुभ कार्य वर्जित हैं। इस वर्ष विक्रम संवत् 2076 और शक संवत 1941 तथा इस वर्ष 2020 का होलाष्‍टक 3 मार्च फाल्गुन शुक्‍ल पक्ष, अष्‍टमी तिथि, दिन मंगलवार को प्रारंभ हो रहा है जो 09 मार्च होलिका दहन के साथ ही समाप्‍त हो जाएगा। नौ मार्च को गोधूलि बेला में होलिका दहन होगा।

होलाष्‍टक के दौरान विवाह, नए निर्माण एवं नए कार्यों को आरंभ नहीं करना  चाहिए। इन दिनों में किए गए कार्यों से कष्‍ट, अनेक पीडाओं की आशंका र‍हती है तथा विवाह आदि संबंध विच्‍छेद और कलह का शिकार हो जाते हैं। पंचांग के मुताबिक होलिका दहन के दिन भद्रा पूंछ का समय सुबह 9:37 मिनट से लेकर 10:38 मिनट त‍क है जबकि भद्रा मुख का समय 10 बजकर 38 मिनट से लेकर 12 बजकर 19 मिनट त‍क है। होलिका पूजन दोपहर 12:30 से 16:40 तक श्रेष्‍ठ है।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

हो‍लिका दहन: 9 मार्च सोमवार

होलिका दहन का मुहूर्त: 6:26 से 8:52 तक

अवधि: 2 घंटे 26 मिनट

पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 9 मार्च 2020 को सुबह 3:03 बजे

पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 9 मार्च 2020 को रात 11:17 बजे