शिव की आराधना के लिए 11 मार्च होगा खास, जानें विशेष योग

mahashiaratri 2021

महाशक्ति शिवशंभु के भक्‍तों का विशेष पर्व आ रहा है। पंचांग के अनुसार महाशिवरात्रि का पर्व 11 मार्च 2021 को होगा। माघ मास की कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। महाशिवरात्रि हिंदू धर्म में विशेष पर्व के रूप में मनाया जाता है। कई लोग इस दिन भगवान शिव का अभिषेक कर उनकी मसंदीदा चीजें भोग में चढ़ाते हैं।

माघ पूर्णिमा पर करें गंगा स्‍नान, जानें क्‍या है इसका महत्‍व

इस दिन भक्‍त जीवन में आने वाली कई परेशानियों से मुक्ति पाने के लिए व्रत उपवास रखते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि पौराणिक

ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव ने ही धरती पर सबसे पहले जीवन को जीवांत रूप देने की कल्‍पना की थी। इस बार शिवरात्रि पर विशेष योग बन रहा है जिसके द्वारा परिवार, पैसा और नौकरी से संबंधित सभी परेशानियों से निजात मिल सकता है।

पंचांग के अनुसार इस वर्ष महाशिवरात्रि पर विशेष योग का निर्माण हो रहा है। महाशिवरात्रि पर शिव योग बन रहा है और घनिष्‍ठा नक्षत्र रहेगा। इस दिन चंद्रमा मकर राशि में विराजमान रहेगा। इस दिन विधिपूर्वक व्रत और पूजा करके भगवान शिव को प्रसंन्‍न किया जा सकता है। पुराने ग्रंथों में ऐसा माना जाता है कि चातुर्मास में भगवान शिव माता पार्वती के साथ पृथ्‍वी का भ्रमण करते हैं और शिव भक्‍तों को अपना आर्शीवाद प्रदान करते हैं।

घर में चाहिए सुख-शांति तो भूलकर भी न करें यह काम

जानें क्‍या है महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त

चतुर्दशी तिथि प्रारंभ: 11 मार्च को दोपहर 2 बजकर 39 मिनट

चतुर्दशी तिथि समाप्‍त: 12 मार्च को दोपहर 3 बजकर 2 मिनट

महाशिवरात्रि पर निशिता काल: 11 मार्च को प्रात: 12 बजकर 6 मिनट से प्रात: 12 बजकर 55 मिनट तक

महाशिव‍रात्रि पारणा मुहूर्त: 12 मार्च को प्रात: 6 बजकर 36 मिनट से दोपहर 3 बजकर 4 मिनट तक