मार्च में होंगे यह व्रत और त्‍योहार, मचेगी होली और शिवरात्रि की धूम

vrat and festival of march 2021

मार्च 2021 की शुरुआत होने वाली है। इस माह महाशिवरात्रि, होली जैसे बड़े और धूम मचाने वाले त्‍योहार पड़ रहे हैं। मार्च महीने में असंकष्‍टी श्री गणेश चतुर्थी, विजया एकादशी, प्रदोष व्रत, होली, महाशिवरात्रि, फाल्‍गुन अमावस्‍या, फुलेरा दूज जैसे कई व्रत त्‍योहार पड़ेंगे।

2 मार्च संकष्‍टी चतुर्थी

संकष्‍टी चतुर्थी के साथ उस दिन मंगलवार का दिन होगा और जब भी चतुर्थी तिथि के दिन मंगलवार पड़ता है तो वह अंगार की चतुर्थी हो जाती है। अंगार की चतुर्थी का संबंध मंगल ग्रह से है।

6 मार्च कालाष्‍टमी

फाल्‍गुन मास की कृष्‍ण पक्ष की पंचमी तिथि को कालाष्‍टमी का व्रत रखा जाता है। इस

दिन कालभैरव का व्रत रखना अच्‍छा माना जाता है।

10 मार्च प्रदोष व्रत

हर माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत किया जाता है और प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल यानि रात्रि के प्रथम प्रहर में की जाती है।

माघ पूर्णिमा का दिन है बेहद खास, भूलकर भी न करें यह काम

11 मार्च महाशिवरात्रि

फाल्‍गुन कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को भगवान शिव को अत्‍यंत ही प्रिय महाशिवरात्रि का व्रत किया जाता है। वैसे तो पूरे साल की प्रत्‍ये‍क माह के कृष्‍ण पक्ष और शुक्‍ल पक्ष की चतुर्दशी को भगवान शंकर को समर्पित मास शिवरात्रि का व्रत किया जाता है।

17 मार्च विनायक चतुर्थी

कृष्‍ण पक्ष की चतुर्शी तिथि भगवान गणेश को समर्पित होती है और इस दिन कई लोग व्रत रखते हैं। इस दिन भगवान श्रीगणेश की पूजा-अर्चना करना शुभ माना जाता है।

21 मार्च होलाष्‍टक प्रारंभ

होली के आठ दिन पहले से होलाष्‍टक आरंभ हो जाता है। फाल्‍गुन मास की शुक्‍ल पक्ष की अष्‍टमी तिथि से फाल्‍गुन पूर्णिमा तक का समय होलाष्‍टक कहा गया है।

शिव की आराधना के लिए 11 मार्च होगा खास, जानें विशेष योग

28 मार्च होलिका दहन

हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्‍गुन मास की पूर्णिमा को होली का पर्व मनाया जाता है। दो दिन पड़ने वाले इस त्‍योहार को सभी धूमधाम से मनाते हैं। 29 मार्च को रंग खेला जाएगा। उसके पांच दिन बाद रंग पंचमी मनाई जाएगी।